रविवार, 30 मई 2010

सुदूर हिमालय में पर्यावरण

सुदूर हिमालय में पर्यावरण
शायद पर्यावरण के क्षेत्र में हिमाचल देश के दूसरे प्रान्तों से कहीं आगे है. यहाँ प्लास्टिक के प्रयोग पर लगभग पूरा प्रतिबन्ध है. अभी अभी हिमाचल में स्थित ग्रेट हिमालयन पार्क से लौटा हूँ. इसके लिए दिल्ली से मनाली जाने वाली मुख्य सड़क पर कुल्लू की सुरंग से पहले औट में उतरना होता है. फिर वहां से तीर्थन नदी के किनारे किनारे सड़क के रास्ते आगे साईरोपा तक. नदी बहुत रफ़्तार से नीचे उतरती है. यह जंगल का अछूता किनारा है. यदि आप पहाड़ में शहरों वाली भगदड़ देखना चाहते हैं तो यहाँ न आयें. लेकिन प्रकृति प्रेमियों के लिए यह जगह किसी स्वर्ग से कम नहीं होगी. बुरांश या रोडेडरौन यहाँ का राष्ट्रीय फूल है. अप्रैल के महीने में यहाँ बुरांश से लदी सुर्ख डालियाँ हर जगह दिखाई देंगी. साईरोपा में हमारा ठहरना वहां के पर्यावरण केंद्र में हुआ जिसकी देखभाल का जिम्मा वन अधिकारी अंकित सूद पर है जो हम जैसे सैलानियों की देखभाल करने के साथ साथ पर्यावरण का महत्वपूर्ण काम भी कर रहे हैं. साईरोपा से आसमान साफ़ होने पर हिमालय का सुन्दर दृश्य दिखाई देता है. हिमालयन पार्क के लिए कुछ आगे जाकर बस छोड़ देनी पड़ती है और पैदल कोई दस किलोमीटर का पैदल सफ़र है. इस यात्रा पर हमारे साथ थे अंकित के भाई पंकी सूद जिनका अपना एक दिलचस्प इतिहास है. कई सालों तक चरस के शिकार होने के बाद पंकी ने एक दिन नशा त्याग दिया और अब वह अपने भाई के साथ पर्यावरण के काम में जुटे हैं. वे  स्थानीय महिलाओं को प्रशिक्षण भी देते हैं.
देखा जाये तो इस प्रदेश में पर्यावरण का काम बेहद मुश्किल है और इसके लिए सुविधाओं की भी कमी है. हिमालयन नेशनल पार्क में कई तरह के जानवर और पक्षी पाए जाते हैं लेकिन यहाँ का सबसे बड़ा आकर्षण तो  यहाँ का प्राकृतिक सौंदर्य ही है.  तीर्थान नदी पर पार्क के भीतर हिप्पो चट्टान है जो देखने में हिप्पो  की शक्ल की है. आगे आप जंगल के भीतर दूर तक पैदल जा सकते हैं लेकिन इसके लिए आपके पास कैम्पिंग का पूरा सामन होना चाहिए. तीर्थन नदी इस क्षेत्र की एकमात्र नदी है जिसपर अब भी कहीं कोई बाँध नहीं बनाया गया है और पर्यावरण की दृष्टि से यह इलाका इसी वजह से कुछ सुरक्षित समझा जाता है. लेकिन जिस देश में पर्यावरण को नष्ट कर व्यवसाय बनाने के लिए उद्योगपतियों और राजनीतिज्ञों की  मिलीभगत लगातार काम कर रही हो वहां सवाल यही उठता है कि बकरे की माँ कबतक खैर मनाएगी?  फ़िलहाल तो हमारी सारी उम्मीद पंकी और अंकित जैसे इकलौते व्यक्तियों के प्रयासों पर ही टिकी है जो बेहद मुश्किल हालत में भी इतना महत्वपूर्ण काम कर रहे हैं.  उम्मीद की जानी चाहिए कि इस क्षेत्र में जिम्मेदार पर्यावरण को बढ़ावा देने के लिए सुविधाओं का विकास किया  जायेगा.

5 टिप्‍पणियां:

  1. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    उत्तर देंहटाएं
  4. हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए हमारी शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    उत्तर देंहटाएं